Friday, 6 June 2014

ऐ शीतल पवन

                                ऐ शीतल पवन
ऐ शीतल पवन, ले चल मुझे,
हमें तुमसे प्यार है, पुकारे कोई |
उमंग मनचली, क्यों बहका रही,
            धड़कन मेरी अब यही गा रही |
ऐ शीतल पवन, ले चल मुझे,
हमें तुमसे प्यार है, पुकारे कोई ||


तू छाया मेरी, मेरे साथ चल,
जिंदगानी अधूरी, इसे पूरी कर |
देखूं मैं अब जहां, आये तू ही नज़र,
हो रहा है यह क्या, मुझपे इश्क-ऐ-असर |
ऐ शीतल पवन, ले चल मुझे,
हमें तुमसे प्यार है, पुकारे कोई ||


लहलहाती धरा, चलती शीतल पवन,
रिश्ता ऐसे कोई, जैसे योगी-हवन |
आ रहा हूँ मैं, गा रहा हूँ अब,
तुझको ले जाऊँगा, कह रहा है ये मन |
ऐ शीतल पवन, ले चल मुझे,
हमें तुमसे प्यार है, पुकारे कोई ||



साथ जो तू मेरे, तो साथ दुनियाँ चले,
डरना क्यों फिर हमें, जो साथ प्यार चले |
हाथों में अब मेरे, हाथ तेरा रहे,
हँसते-गाते हुए,सफ़र यूं ही चले |
ऐ शीतल पवन, ले चल मुझे,
हमें तुमसे प्यार है, पुकारे कोई ||

No comments:

Post a Comment